CBSE Sample Papers for Class 10 Hindi Course B Set 5 for Practice

Students can access the CBSE Sample Papers for Class 10 Hindi with Solutions and marking scheme Course B Set 5 will help students in understanding the difficulty level of the exam.

CBSE Sample Papers for Class 10 Hindi Course B Set 5 for Practice

निर्धारित समय : 3 घंटे
अधिकतम अंक : 80

सामान्य निर्देश:
(क) इस प्रश्न-पत्र के दो खंड हैं- ‘अ’ और ‘ब’।
(ख) खंड ‘अ’ में कुल 10 वस्तुपरक प्रश्न पूछे गए हैं। सभी प्रश्नों में उपप्रश्न दिए गए हैं। दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए प्रश्नों के उत्तर दीजिए।
(ग) खंड ‘ब’ में कुल 7 वर्णनात्मक प्रश्न पूछे गए हैं। प्रश्नों में आंतरिक विकल्प दिए गए हैं। दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

खंड ‘अ’- वस्तुपरक प्रश्न (अंक 40)

अपठित गद्यांश (अंक 10)

प्रश्न 1.
नीचे दो गद्यांश दिए गए हैं किसी एक गद्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़िए और उस पर आधारित प्रश्नों के उत्तर दीजिए। (5 x 1 =5)
सफलता के लिए धैर्य और विश्वास भी परम आवश्यक है, क्योंकि कभी-कभी सफलता या सुपरिणाम में कुछ विलंब भी हो जाता है, लेकिन ऐसी स्थिति में धैर्य एवं आत्मविश्वास का दामन थामे रहना चाहिए। ऐसे अनेक उदाहरण दिए जा सकते हैं जब व्यक्ति के आत्मविश्वास ने उसे कहाँ से कहाँ पहुँचा दिया। स्कॉटलैंड का राजा रॉबर्ट ब्रूस शत्रुओं से परास्त होकर एक गुफा में छुपा हुआ था कि उसने एक मकड़ी को अपने जाले के पतले तार के सहारे ऊपर चढ़ते देखा।

मकड़ी ऊपर चढ़ने का प्रयास करती और बार-बार गिर पड़ती। उसने सात बार प्रयास किया मगर अपना धैर्य, आत्मविश्वास और उत्साह न छोड़ा। परिणाम यह हुआ कि आठवीं बार वह चढ़ने में सफल हो ही गई। रॉबर्ट ब्रूस के सोए आत्मविश्वास को इस छोटी-सी घटना ने झिंझोड़कर रख दिया। आत्मविश्वास से युक्त होकर उसने शत्रु पर हमला किया और सफलता प्राप्त की। राइट बंधु न जाने कितने वर्षों तक वायुयान बनाने में लगे रहे और अंत में उनका आत्मविश्वास रंग लाया और उन्होंने वायुयान बना दिया। मैडम क्यूरी अपने आत्मविश्वास के बल पर ही अनेक वर्षों के बाद, अपने अथक परिश्रम से रेडियम का आविष्कार करने में सफल हुई थीं।

अपने आत्मविश्वास के बल पर ही शिवाजी ने अपने थोड़े से मराठा सैनिकों को लेकर औरंगजेब की विशाल सेना को तितर-बितर कर दिया था। इस संसार में जो भी व्यक्ति हिम्मत हार जाता है, वहीं का वहीं रह जाता है। सफलता उससे कोसों दूर भागती है। एकलव्य का उदाहरण देखिए।

जब गुरु द्रोणाचार्य ने उसे शस्त्र विद्या सिखाने से मना कर दिया तब भी उसने हिम्मत न हारी और गुरु की एक मूर्ति बनाकर उसी के सामने शस्त्र-अभ्यास करना प्रारंभ किया और एक दिन अपनी योग्यता से स्वयं गुरु द्रोण को विस्मित कर दिया। आत्मविश्वास, स्वावलंबन, दृढ़ता आदि गुणों के बल पर ही कोलंबस तथा वास्को-डि-गामा जैसे व्यक्ति नए-नए द्वीप खोज पाए।

(i) जब सफलता या सुपरिणाम में विलंब हो जाए तब मनुष्य को क्या करना चाहिए?
(क) संघर्ष करना चाहिए
(ख) कार्य करने की शक्ति बढ़ा देनी चाहिए
(ग) धैर्य और आत्मविश्वास बनाए रखना चाहिए
(घ) सफलता न मिल पाने के कारणों का पता लगाना चाहिए
उत्तर
(ग) धैर्य और आत्मविश्वास बनाए रखना चाहिए

(ii) रॉबर्ट ब्रूस का आत्मविश्वास पुनर्जीवित कैसे हुआ?
(क) उसके मंत्रियों ने उसकी हिम्मत बढ़ाई
(ख) उसके मित्रों ने उसे फिर से युद्ध के लिए प्रेरित किया
(ग) मकड़ी के संघर्ष ने उसे लड़ने की हिम्मत दी
(घ) उपर्युक्त सभी
उत्तर
(ग) मकड़ी के संघर्ष ने उसे लड़ने की हिम्मत दी

(iii) आत्मविश्वास को बनाए रखने के लिए लेखक ने निम्नलिखित में से कौन-सा उदाहरण नहीं दिया?
(क) रॉबर्ट ब्रूस तथा मकड़ी के जाले पर चढ़ने की घटना
(ख) राइट बंधु तथा वायुयान बनाने की घटना
(ग) मैडम क्यूरी द्वारा रेडियम का आविष्कार
(घ) अल्बर्ट आइन्स्टीन का आविष्कार
उत्तर
(घ) अल्बर्ट आइन्स्टीन का आविष्कार

(iv) शिवाजी ने किसे हराया था?
(क) औरंगजेब को
(ख) अकबर को
(ग) शाहजहाँ को
(घ) बाबर को
उत्तर
(क) औरंगजेब को

(v) गद्यांश का उपयुक्त शीर्षक हो सकता है
(क) संघर्ष और असफलता
(ख) सफलता का मार्ग
(ग) सफलता
(घ) परिक्षम
उत्तर
(क) संघर्ष और असफलता

अथवा

पर्यावरण की समृद्धि और स्वस्थ होने से ही हमारा जीवन भी समृद्ध और सुखी होता है। हमारे पूर्वज प्रकृति की दैवीय शक्ति के रूप में उपासना करते थे, उसे परमेश्वरी भी कहते थे। उन्होंने पर्यावरण का बहुत गहरा चिंतन किया। जो कुछ पर्यावरण के लिए हानिकारक था, उसे आसुरी प्रवृत्ति कहा और जो हितकर था, उसे दैवीय प्रवृत्ति कहा। भारत के पुराने ग्रंथों में वृक्षों और वनों का चित्रण पृथ्वी के रक्षक के रूप में किया गया है।

उनको संतान की तरह पाला जाता था और हरे-भरे पेड़ों को अपने किसी स्वार्थ के लिए काटना पाप कहा जाता था। अनावश्यक रूप से पेड़ों को काटने पर दंड का विधान भी था। मनुष्य समझता है कि समस्त प्राकृतिक संपदा पर केवल उसी का आधिपत्य है। हम जैसा चाहें उसका उपयोग करें। इसी भोगवादी प्रवृत्ति के कारण मानव ने उसका इस हद तक शोषण कर लिया है कि अब उसका अस्तित्व ही संकट में पड़ गया है।

वैज्ञानिक बार-बार चेतावनी दे रहे हैं कि प्रकृति और पर्यावरण की रक्षा करो, अन्यथा मानव जाति नहीं बच पाएगी। इन जीवन-उपयोगी वृक्षों की देवी-देवता की तरह पूजा की जाती है। पर्यावरण की दृष्टि से वृक्ष को परम रक्षक और मित्र बताया गया है। यह हमें अमृत प्रदान करता है, दूषित वायु को स्वयं ग्रहण करके हमें प्राणवायु देता है, मरुस्थल का नियंत्रक होता है, नदियों की बाढ़ को रोकता है और जलवायु को स्वच्छ बनाता है। इसलिए हमें वृक्ष-मित्र होकर जीवन-यापन करना चाहिए।

(i) पर्यावरण से जुड़ा है
(क) पुराने ग्रंथों का संबंध
(ख) मानव-जीवन की समृद्धि
(ग) प्राकृतिक दोहन
(घ) प्रकृति का चित्रण
उत्तर
(ख) मानव-जीवन की समृद्धि

(ii) पर्यावरण प्रदूषण का कारण है कि मनुष्य
(क) प्राकृतिक संरक्षण
(ख) जीवन की सुखमयता
(ग) प्रकृति पर अधिकार
(घ) प्राकृतिक दोहन
उत्तर
(घ) प्राकृतिक दोहन

(iii) आसुरी’ का आशय है
(क) हानिकारक
(ख) राक्षसी
(ग) पर्यावरण के लिए अहितकर
(घ) मानवता की विनाशक
उत्तर
(ख) राक्षसी

(iv) वृक्षों को सच्चा मित्र मानने का कारण क्या है?
(क) दूषित वायु हटाकर प्राणवायु देता है
(ख) कार्बन डाइ-ऑक्साइड छोड़ता है
(ग) मानसिक रोगों से रक्षा करता है।
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर
(क) दूषित वायु हटाकर प्राणवायु देता है

(v) गद्यांश का उपयुक्त शीर्षक हो सकता है
(क) पेड़ फलदायक है
(ख) पेड़ हमारे मित्र
(ग) प्राकृतिक संपदा
(घ) मानव का स्वार्थ
उत्तर
(ख) पेड़ हमारे मित्र

प्रश्न 2.
नीचे दो गद्यांश दिए गए हैं किसी एक गद्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़िए और उस पर आधारित प्रश्नों के उत्तर दीजिए। (5 x 1 = 5)

खेल से मन-मस्तिष्क का विकास होता है। खेल के मैदान की मित्रता और भाईचारे का जवाब नहीं। खेल-भावना हमें जीत की खुशी और हार के दुख से ऊपर उठाकर समरसता की ओर ले जाती है। यही समरसता व्यक्ति को जीवन में समुन्नत और सफल बनाती है। खेल अनुशासन, संगठन, पारस्परिक सहयोग, साहस, विश्वास, आज्ञाकारिता, सहानुभूति, समरसता आदि गुणों का विकास करके हमें देश का सभ्य तथा सुसंस्कृत नागरिक बनाते हैं।

खेल हमारे अंदर निर्णय लेने की शक्ति का विकास करते हैं। ऐसा कौन-सा गुण है जो हमें खेल से प्राप्त नहीं होता। ‘वाटर लू’ की विजय का रहस्य समझाते हुए एक अंग्रेज़ ने कहा था-“विद्यार्थी जीवन में खेल की भावना से प्रशिक्षित होकर ही ‘एटन’ के मैदान में अंग्रेजों ने नेपोलियन को ‘वाटर लू’ के युद्ध में पराजित किया था।” आज के इस युग

में तो खेलों का महत्व और अधिक बढ़ गया है। आज बहुत बड़ी आवश्यकता इस बात की है कि संसार के विभिन्न देश अपने-अपने मतभेदों को भुलाकर प्रेम और शांति से रहें। खेल इसमें अपनी मुख्य भूमिका निभाता है। समय-समय पर आयोजित एशियाई खेल या यूरोपीय खेल या ओलंपिक खेल-कूद का इस दृष्टि से बहुत महत्व है। सभी देशों के हजारों लोग आपस में मिल बैठते हैं। भाषा, रंग, जाति, धर्म आदि की संकीर्ण मर्यादाएँ यहाँ आकर टूट जाती हैं।

(i) खेल से विकास होता है
(क) शरीर का
(ख) मन और मस्तिष्क का
(ग) शारीरिक अंगों का
(घ) बुद्धि का
उत्तर
(घ) बुद्धि का

(ii) खेलों से निम्नलिखित में से कौन-सा गुण विकसित नहीं होता?
(क) अनुशासन एवं पारस्परिक सहयोग सिखाते हैं।
(ख) आज्ञाकारिता की भावना और आत्मविश्वास पैदा करते हैं।
(ग) परस्पर दुश्मनी और वैमनस्य पैदा करते हैं।
(घ) संगठन की भावना तथा समरसता के गुणों का विकास करते हैं।
उत्तर
(ग) परस्पर दुश्मनी और वैमनस्य पैदा करते हैं।

(iii) अंग्रेज़ों ने वाटर लू के युद्ध में नेपोलियन को कैसे पराजित किया था?
(क) बहुत बड़ी सेना लेकर
(ख) सैनिक शिक्षा से प्रशिक्षित होकर
(ग) विद्यार्थी जीवन में खेल भावना से प्रशिक्षित होकर
(घ) नेपोलियन की कमजोरियों को पहचान कर
उत्तर
(ग) विद्यार्थी जीवन में खेल भावना से प्रशिक्षित होकर

(iv) अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेल प्रतियोगिताएँ आयोजन होने से क्या लाभ होता है?
(क) भाषा, रंग, जाति, धर्म आदि की संकीर्ण मर्यादाएँ टूट जाती हैं।
(ख) लोग एक-दूसरे के संपर्क में आते हैं और मित्र बन जाते हैं।
(ग) एक-दूसरे के देश को देखने तथा घूमने का अवसर मिलता है।
(घ) भिन्न-भिन्न देशों की संस्कृतियों का पता चलता है।
उत्तर
(क) भाषा, रंग, जाति, धर्म आदि की संकीर्ण मर्यादाएँ टूट जाती हैं।

(v) ‘संगठन’ शब्द में सही उपसर्ग है
(क) स
(ख) सम
(ग) सड्.
(घ) सम्
उत्तर
(घ) सम्

अथवा

मानव जाति को अन्य जीवधारियों से अलग करके महत्व प्रदान करने वाला एकमात्र गुरु है- उसकी विचार-शक्ति। मनुष्य के पास बुद्धि है, विवेक है, तर्कशक्ति है अर्थात उसके पास विचारों की अमूल्य निधि है। अपने सब विचारों की नींव पर ही आज मानव ने अपनी श्रेष्ठता की स्थापना की है और मानव सभ्यता का विशाल महल खड़ा किया है। यही कारण है कि विचारशील मनुष्य के पास जब सद्विचारों का अभाव रहता है तो उसका वह शून्य मानस कुविचारों से ग्रस्त होकर एक प्रकार से शैतान के वशीभूत हो जाता है।

मानव बुद्धि जब सब सद्विचारों से प्रेरित होकर कल्याणकारी योजनाओं में प्रवृत्त रहती है तो उसकी सहृदयता का कोई अंत नहीं होता किंतु जब वहाँ कुविचार अपना घर बना लेते हैं तो उसकी पाशविक प्रवृत्तियाँ उस पर हावी हो उठती हैं। हिंसा और पापाचार का दानवी साम्राज्य इस बात का द्योतक है कि मानव की विचार शक्ति, जो उसे पशु बनाने से रोकती है, उसका साथ देती है।

(i) मानव जाति को महत्व देने में किसका योगदान है?
(क) शारीरिक शक्ति का
(ख) परिश्रम और उत्साह का
(ग) विवेक और विचारों का
(घ) मानव सभ्यता का
उत्तर
(ग) विवेक और विचारों का

(ii) विचारों की निधि में शामिल नहीं है
(क) उत्साह
(ख) विवेक
(ग) तर्क
(घ) बुद्धि
उत्तर
(क) उत्साह

(iii) मानव में पाशविक प्रवृत्तियाँ क्यों जागृत होती हैं?
(क) हिंसा बुद्धि के कारण
(ख) सत्य बोलने के कारण
(ग) कुविचारों के कारण
(घ) स्वार्थ के कारण।
उत्तर
(ग) कुविचारों के कारण

(iv) “उसके पास विचारों की अमूल्य निधि है।” रचना की दृष्टि से यह वाक्य है
(क) संयुक्त
(ख) सरल
(ग) मिश्र
(घ) इच्छावाचक
उत्तर
(ख) सरल

(v) गद्यांश का उपयुक्त शीर्षक हो सकता है
(क) मनुष्य का गुरु
(ख) विवेक शक्ति
(ग) दानवी शक्ति
(घ) पाशविक प्रवृत्ति
उत्तर
(ख) विवेक शक्ति

व्यावहारिक व्याकरण (अंक 16)

प्रश्न 3.
निम्नलिखित पाँच भागों में से किन्हीं चार भागों के उत्तर दीजिए। (4 x 1 =4)

(i) ‘सबसे कम बोलने वाला वह आज चुपचाप बैठा है।’ रेखांकित पदबंध है
(क) संज्ञा पदबंध
(ख) सर्वनाम पदबंध
(ग) क्रिया पदबंध
(घ) विशेषण पदबंध
उत्तर
(ख) सर्वनाम पदबंध

(ii) निम्नलिखित में से कौन-सा रेखांकित पदबंध संज्ञा पदबंध है? ।
(क) वह भागा-भागा दफ्तर गया।
(ख) विदेश से आए अतिथियों में कुछ शाकाहारी हैं।
(ग) बच्चे खेल रहे हैं।
(घ) वह गोरा-चिट्टा लड़का मेरा दोस्त है।
उत्तर
(ख) विदेश से आए अतिथियों में कुछ शाकाहारी हैं।

(iii) कौन-सा रेखांकित पदबंध सर्वनाम पदबंध नहीं है?
(क) काम करने वाले उस लड़के को बुलाओ।
(ख) मुझे उत्तर देने वाले तुम हो कौन!
(ग) मेरे पास नीली कमीज है उसे तुम ले जाओ।
(घ) कबूतर आसमान में उड़ गए।
उत्तर
(घ) कबूतर आसमान में उड़ गए।

(iv) बहुत तेज़ पानी बरसने से बाढ़ आ गई । रेखांकित पदबंध है
(क) संज्ञा पदबंध
(ख) सर्वनाम पदबंध
(ग) क्रियाविशेषण पदबंध
(घ) क्रिया पदबंध
उत्तर
(घ) क्रिया पदबंध

(v) रेखांकित पदबंधों में से कौन-सा पदबंध विशेषण पदबंध नहीं है?
(क) वह अद्भुत और साहसी बालक था।
(ख) मीठे-मीठे सपने देखने वाले वह लोग आलसी हैं।
(ग) नागालैंड में रहने वाली सखी बहुत चतुर है।
(घ) लोहे की मजबूत चाबी लेकर आओ।
उत्तर
(घ) लोहे की मजबूत चाबी लेकर आओ।

प्रश्न 4.
निम्नलिखित पाँच भागों में से किन्हीं चार भागों के उत्तर दीजिए। (4 x 1 =4)

(i) ‘आप द्वार पर बैठे और उनकी प्रतीक्षा करें।’ रचना के आधार पर वाक्य भेद है
(क) इच्छावाचक
(ख) सरल वाक्य
(ग) मिश्रित वाक्य
(घ) संयुक्त वाक्य
उत्तर
(घ) संयुक्त वाक्य

(ii) निम्नलिखित वाक्यों में से मिश्र वाक्य है
(क) खाना खाकर चले जाना।
(ख) खाना खाओ और चले जाओ।
(ग) जब खाना खा लेना तब चले जाना।
(घ) खाना खाते ही चला गया।
उत्तर
(ग) जब खाना खा लेना तब चले जाना।

(iii) ‘शोर मचाने वाले लड़के पकड़े गए।’ रचना के आधार पर वाक्य भेद है
(क) संयुक्त वाक्य
(ख) मिश्रित वाक्य
(ग) सरल वाक्य
(घ) निषेधात्मक वाक्य
उत्तर
(ग) सरल वाक्य

(iv) निम्नलिखित वाक्यों में संयुक्त वाक्य है
(क) परिश्रम करो और सफलता पाओ।
(ख) जितना परिश्रम करोगे उतनी सफलता पाओगे।
(ग) परिश्रम ही सफलता मिलती है।
(घ) परिश्रम ही सफलता की कुंजी है।
उत्तर
(क) परिश्रम करो और सफलता पाओ।

(v) ‘पुलिस की गाड़ी आई और उन्हें पकड़ कर ले गई।’ रचना के आधार पर वाक्य भेद है
(क) संयुक्त वाक्य
(ख) मिश्रित वाक्य
(ग) संदेहात्मक वाक्य
(घ) सरल वाक्य
उत्तर
(क) संयुक्त वाक्य

प्रश्न 5.
निम्नलिखित पाँच भागों में से किन्हीं चार भागों के उत्तर दीजिए। (4 x 1 =4)

(i) ‘खूबी के साथ’ विग्रह का समस्तपद है
(क) बखूब
(ख) बखूबी
(ग) खूबसूरत
(घ) बेखूबी
उत्तर
(ख) बखूबी

(ii) किस समस्तपद में कर्मधारय समास है?
(क) सूचित
(ख) महाराजा
(ग) राजपुत्र
(घ) आत्मविश्वास
उत्तर
(ख) महाराजा

(iii) जिस समास में उत्तरपद प्रधान होने के साथ ही साथ पूर्वपद तथा उत्तरपद में विशेषण-विशेष्य का संबंध भी होता है, उसे कौन-सा समास कहते हैं?
(क) कर्मधारय
(ख) बहुव्रीहि
(ग) तत्पुरुष
(घ) वंद्व
उत्तर
(क) कर्मधारय

(iv) ‘मुख-दर्शन’ में कौन-सा समास है?
(क) कर्मधारय
(ख) बहुव्रीहि
(ग) तत्पुरुष
(घ) द्वंद्व
उत्तर
(ग) तत्पुरुष

(v) द्विगु समास है
(क) पंजाब
(ख) सूक्तिबाण
(ग) लंबोदर
(घ) नीतिनिपुण
उत्तर
(क) पंजाब

प्रश्न 6.
निम्नलिखित चारों भागों के उत्तर दीजिए। (4 x 1 =4)
(i) तुम इतनी देर से ………….. रहे हो। उपयुक्त मुहावरे से वाक्य पूरा कीजिए।
(क) मर जाना
(ख) नौ-दो ग्यारह होना
(ग) गला फाड़ना
(घ) पत्ता साफ होना
उत्तर
(ग) गला फाड़ना

(ii) ‘तूती बोलना’ मुहावरे का अर्थ है
(क) चिल्लाना
(ख) बोलबाला होना
(ग) डराना
(घ) तुतलाना
उत्तर
(ख) बोलबाला होना

(iii) ‘चेहरा मुरझाना’ मुहावरे का अर्थ है
(क) हार जाना
(ख) घबरा जाना
(ग) निराश हो जाना
(घ) दिल टूटना
उत्तर
(ग) निराश हो जाना

(iv) ‘चुपचाप आना’ किस मुहावरे का अर्थ है?
(क) नौ-दो ग्यारह होना
(ख) चंपत हो जाना
(ग) बाट जोहना
(घ) दबे पाँव आना
उत्तर
(घ) दबे पाँव आना

पाठ्यपुस्तक (अंक 14)

प्रश्न 7.
पद्यांश को पढ़कर प्रश्नों के सर्वाधिक उपयुक्त विकल्पों का चयन कीजिए। (4 x 1 = 4)
गिरि का गौरव गाकर झर-झर
मद में नस-नस उत्तेजित कर
मोती की लडियों-से सुंदर
झरते हैं झाग भरे निर्झर!
गिरिवर के उर से उठ-उठ कर
उच्चाकांक्षाओं से तरुवर
हैं झाँक रहे नीरव नभ पर
अनिमेष, अटल कुछ चिंतापर।

(i) किसे ‘गिरि का गौरव गाने वाला’ कहा गया है?
(क) पर्वत पर खिलने वाले फूलों को
(ख) पर्वत पर खड़े वृक्षों को
(ग) पर्वत की ऊँची-ऊँची चोटियों को
(घ) पर्वत से झरने वाले झरनों को
उत्तर
(घ) पर्वत से झरने वाले झरनों को

(ii) झरने किस तरह से झर रहे हैं?
(क) बहुत ऊँचाई से गिर रहे हैं
(ख) मोती की लड़ियों की तरह
(ग) पर्वतों की तरह
(घ) नसों की तरह
उत्तर
(ख) मोती की लड़ियों की तरह

(iii) वृक्ष आकाश की ओर देख रहे हैं
(क) एकटक, प्रसन्न, अटल रहकर
(ख) प्रसन्न, अटल, चिंतित रहकर
(ग) एकटक, अटल, चिंतित रहकर
(घ) चिंतित, उत्साहित, एकटक रहकर
उत्तर
(ग) एकटक, अटल, चिंतित रहकर

(iv) ‘मद में नस-नस उत्तेजित कर’ पंक्ति का भाव है
(क) इनका सौंदर्य तन-मन में उल्लास, उमंग और स्फूर्ति का संचार कर देता है
(ख) इनका सौंदर्य मादक और मस्त है
(ग) इनका सौंदर्य उत्तेजना उत्पन्न करने वाला है
(घ) उपर्युक्त सभी
उत्तर
(घ) उपर्युक्त सभी

प्रश्न 8.
निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर प्रश्नों के सर्वाधिक उपयुक्त विकल्पों का चयन कीजिए। (5 x 1 = 5)
किस्सा क्या हुआ था उसको उसके पद से हटाने के बाद हमने वज़ीर अली को बनारस पहुँचा दिया और तीन लाख रुपया सालाना वजीफ़ा मुकर्रर कर दिया। कुछ महीने बाद गवर्नर जनरल ने उसे कलकत्ता (कोलकाता) तलब किया। वज़ीर अली कंपनी के वकील के पास गया जो बनारस में रहता था और उससे शिकायत की कि गवर्नर जनरल उसे कलकत्ता में क्यूँ तलब करता है। वकील ने शिकायत की परवाह नहीं की और उल्टा उसे ही बुरा-भला सुना दिया। वज़ीर अली के तो दिल में यूँ भी अंग्रेजों के खिलाफ नफरत कूट-कूटकर भरी है उसने खंजर से वकील का काम तमाम कर दिया।

(i) अंग्रेज़ सरकार ने वज़ीर अली के लिए सालाना कितना वजीफ़ा मुकर्रर किया था?
(क) तीन लाख रुपया
(ख) चार लाख रुपया
(ग) ढाई लाख रुपया
(घ) दो-तीन रुपया
उत्तर
(क) तीन लाख रुपया

(ii) वकील कहाँ रहता था?
(क) कलकत्ता
(ख) अवध
(ग) बनारस
(घ) आजमगढ़
उत्तर
(ग) बनारस

(iii) वज़ीर अली ने कंपनी से क्या सवाल किया? ।
(क) उसका वज़ीफा अभी तक क्यों नहीं उसे दिया गया?
(ख) उसे कलकत्ता क्यों तलब किया जाता है?
(ग) गवर्नर आखिरकार उससे और क्या चाहता है?
(घ) उसे बनारस में कैद क्यों रखा गया है?
उत्तर
(ख) उसे कलकत्ता क्यों तलब किया जाता है?

(iv) ‘काम तमाम कर देने’ का अर्थ है
(क) बदला लेना
(ख) गुस्सा करना
(ग) जान से मार देना
(घ) घायल कर देना
उत्तर
(ग) जान से मार देना

(v) वज़ीर अली ने वकील का काम तमाम क्यों कर दिया?
(क) क्योंकि वह वकील से नफरत करता था
(ख) वकील ने उसकी शिकायत नहीं सुनी बल्कि उसे बुरा-भला कहा
(ग) वकील अंग्रेज़ था
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर
(ख) वकील ने उसकी शिकायत नहीं सुनी बल्कि उसे बुरा-भला कहा

प्रश्न 9.
निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर प्रश्नों के सर्वाधिक उपयुक्त विकल्पों का चयन कीजिए। (5 x 1 = 5)

दुनिया कैसे वजूद में आई? पहले क्या थी? किस बिंदु से इसकी यात्रा शुरू हुई? इन प्रश्नों के उत्तर विज्ञान अपनी तरह से देता है, धार्मिक ग्रंथ अपनी-अपनी तरह से। संसार की रचना भले ही कैसे हुई हो लेकिन धरती किसी एक की नहीं है। पंछी, मानव, पशु, नदी, पर्वत, समंदर आदि की इसमें बराबर की हिस्सेदारी है। यह और बात है कि इस हिस्सेदारी में मानव जाति ने अपनी बुद्धि से बड़ी-बड़ी दीवारें खड़ी कर दी हैं।

पहले पूरा संसार एक परिवार के समान था अब टुकड़ों में बँटकर एक-दूसरे से दूर हो चुका है। पहले बड़े-बड़े दालानों-आँगनों में सब मिल-जुलकर रहते थे अब छोटे-छोटे डिब्बे जैसे घरों में जीवन सिमटने लगा है। बढ़ती हुई आबादियों ने समंदर को पीछे सरकाना शुरू कर दिया है, पेड़ों को रास्तों से हटाना शुरू कर दिया है, फैलते हुए प्रदूषण ने पंछियों को बस्तियों से भगाना शुरू कर दिया है। बारूदों की विनाशलीलाओं ने वातावरण को सताना शुरू कर दिया। अब गरमी में ज़्यादा गरमी, बेवक्त की बरसातें, ज़लज़ले, सैलाब, तूफ़ान और नित नए रोग, मानव और प्रकृति के इसी असंतुलन के परिणाम हैं। नेचर की सहनशक्ति की एक सीमा होती है।

(i) लेखक किन बातों में नहीं पड़ना चाहता है?
(क) दुनिया विज्ञान ने बनाई
(ख) दुनिया धार्मिक लोगों ने बनाई
(ग) दुनिया कैसे वजूद में आई
(घ) दुनिया की रचना अल्लाह ने की
उत्तर
(ग) दुनिया कैसे वजूद में आई

(ii) इस संसार में किसने बड़ी-बड़ी दीवारें खड़ी कर दीं?
(क) पशुओं ने
(ख) प्रकृति ने
(ग) मानव बुद्धि ने
(घ) इन सभी ने
उत्तर
(ग) मानव बुद्धि ने

(iii) वर्तमान युग में घर की बनावट कैसी हो गई है?
(क) हवादार
(ख) छोटे-छोटे डिब्बों जैसी
(ग) बड़े-बड़े दालान जैसी
(घ) उपर्युक्त सभी
उत्तर
(ख) छोटे-छोटे डिब्बों जैसी

(iv) प्रकृति के असंतुलन के परिणाम क्या हुए?
(क) जलजले आने लगे।
(ख) बेवक्त बरसात होने लगी
(ग) नित नए रोग उत्पन्न होने लगे
(घ) दिए गए सभी विकल्प उचित हैं
उत्तर
(घ) दिए गए सभी विकल्प उचित हैं

(v) समुद्र के सिमटने का कारण है
(क) मनुष्य की बुद्धि
(ख) बढ़ती आबादी
(ग) पानी का कम होना
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर
(क) मनुष्य की बुद्धि

सात खंड ‘ब’- वर्णनात्मक प्रश्न (अंक 40)

पाठ्यपुस्तक एवं पूरक पाठ्यपुस्तक (अंक 14)

प्रश्न 10.
निम्नलिखित प्रश्नों में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर लगभग 25-30 शब्दों में लिखिए। (2 x 2 = 4)
(क) बड़े भाई को अपने मन की इच्छाएँ क्यों दबानी पड़ती थीं?
(ख) समुद्र ने अपना क्रोध किस रूप में व्यक्त किया?
(ग) ‘मनुष्य मात्र बंधु है’ से आप क्या समझते हैं? स्पष्ट कीजिए।

प्रश्न 11.
‘अब कहाँ दूसरों के दुख से दुखी होने वाले’ पाठ के माध्यम से लेखक ने क्या संदेश दिया है? आज के संदर्भ में यह महत्वपूर्ण क्यों है? 60-70 शब्दों में समझाइए। (1 x 4 =4)

प्रश्न 12.
निम्नलिखित में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर 40-50 शब्दों में दीजिए। (2 x 3=6 )

(क) हरिहर काका के मामले में गाँववालों की क्या राय थी और उसके क्या कारण थे?
(ख) स्काउट परेड करते समय लेखक स्वयं को महत्वपूर्ण ‘आदमी’ फौजी जवान क्यों समझने लगता था?
(ग) पूरे घर में इफ़्फ़न को अपनी दादी से ही विशेष स्नेह क्यों था?

लेखन (अंक 26)

प्रश्न 13.
निम्नलिखित में से किसी एक विषय पर दिए गए संकेत-बिंदुओं के आधार पर लगभग 80-100 शब्दों में एक अनुच्छेद लिखिए। (1 x 6 = 6)
(क) स्वास्थ्य एवं खेल
संकेत बिंदु-

  • स्वास्थ्य क्या है?
  • खेल और स्वास्थ्य के महत्व
  • खेलने और पढ़ने का समय
  • उपसंहार।

(ख) समाचार-पत्र और उनके लाभ संकेत बिंदु-

  • समाचार-पत्र की उत्पत्ति
  • समाचार-पत्र के लाभ
  • स्वस्थ पत्रकारिता से समाज निर्माण
  • निष्कर्ष।

(ग) पर्यावरण प्रदूषण संकेत बिंदु-

  • पर्यावरण का अर्थ और स्वरूप
  • पर्यावरण प्रदूषण के कारण
  • पर्यावरण प्रदूषण के प्रकार
  • प्रदूषण की समस्या का समाधान।

प्रश्न 14.
बस में छूटे सामान का पता लगाने के लिए दिल्ली परिवहन निगम के प्रबंधक को पत्र लिखिए।
अथवा
क्षेत्र में फैली गंदगी की ओर ध्यान आकर्षित कराते हुए स्वास्थ्य अधिकारी को पत्र लिखिए।

प्रश्न 15.
सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा ‘स्वच्छ भारत’ हेतु स्लोगन/नारा लिखे जाने हेतु 30 से 40 शब्दों में सूचना तैयार कीजिए।
अथवा
‘प्रतिभा खोज प्रतियोगिता’ आयोजित होने वाली है। इच्छुक विद्यार्थियों को नामांकन कराने हेतु सूचना-पट्ट के लिए लगभग 30-40 शब्दों में एक सूचना तैयार कीजिए।

प्रश्न 16.
“निक्स प्रिंटर’ नाम से 25-50 शब्दों में एक आकर्षक विज्ञापन बनाइए।
अथवा
‘खिलौनों की दुकान’ के लिए एक आकर्षक विज्ञापन बनाइए।

प्रश्न 17.
दिए गए विषय के आधार पर 100-120 शब्दों में लघु कथा लिखिए। (5 x 1 =5)
• मन के हारे हार है मन के जीते जीत।
अथवा
• दुकानदार का बाल-प्रेम।